Saturday, 11 November 2017

बहुत पावरफुल माँ काली रक्षा मंत्र

एक सुरक्षा विधान ओर कहते है ये एक मंत्र ऐसा है जो मदारी ओर सड़कछाप बाजीगरो तक ये मंत्र प्रचलित है पर इसका विधा विधान किसी के पास नही नही है ओर आज आपको इस मंत्र के साथ पुणे विधान दे रहे है पर आपको ये अपने गुरु आग्या लेकर ही करे बिना गुरु के दिशा निर्देश के कोई भी मंत्र विधान ना करे यही अच्छा है आपके लिए ओर आपके अपने के लिये..

ॐ काली महाकाली इन्द्र की बेटी बह्मा की साली, 
उड़ बैठी पीपल की डाली दोनों हाथ बजावै ताली, 
जहाँ जाय वज्र की ताली वहाँ ना आवे दुश्मन हाली, 
दुहाई कामरू कामाक्षा नैना योगिनी की ईश्वर महादेव, 
गौरा पार्वती की दुहाई वीर मसान की, 


इस मंत्र को आश्विन दशहरे (दशमी )के दिन ग्यारह हजार बार जप हवन करना है जप क्रिया करते समय कंडो की अग्नि मे गुग्गुल की आहति देते रहे ओर जिस दिन मंत्र सिद्ध करना है उस दिन उपवास रखे फल फूट या दुध का सेवन करे ओर जपकाल मे साधक अपने आसन को पुर्वमुखी या उतरमुखी ही होना चाहिए एक चौकोर यंत्र आटे से बना ले ओर उसके बीच मे सिन्दूर से लाइन खीचे ले ओर उसके बीच मे कलश स्थापित करे ओर उस पर ढक्कन लगने तक जौ से भर दिजिये ओर उसमे दीपक लगा दिजिये ओर मंत्र जप के साथ घी गूगल ओर कपूर की धुनी देते जाये इस तरह मंत्र प्रभावी होकर पूणेतया साधक को सुरक्षा प्रदान करता है फिर किसी जगह इसको इस्तेमाल करना है तो मंत्र पढते हुये तीन बार ताली बजाये ओर अपने चार ओर मंत्र को जपते हुये सुरक्षा घेरा बना लिजिये इससे आपको सुरक्षा प्रदान होती है
जय माँ जय बाबा महाकाल जय श्री राधे कृष्णा अलख आदेश

7 comments:

Jai Mahakaal: गुप्त नवरात्रि कब से है और क्या उपाय करें???

Jai Mahakaal: गुप्त नवरात्रि कब से है और क्या उपाय करें??? : मित्रों आप सभी को जय मां बाबा की आशा है कि मां बाबा की कृपा आप सभी पर बरस रही ह...